Mp Board 12th August Assignment-01 All Test paper Solution 2021

Top afd

Mp Board 12th August Assignment-01 All Test paper Solution 2021

Mp Board 12th August Assignment-01 All Test paper Solution 2021 {All Paper Solution Download}


दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम आपको बताने जा रहे हैं छत्तीसगढ़ में कक्षा बारहवीं के अगस्त माह के असाइनमेंट चल रहे हैं । 






















Class 12th समाजशास्त्र August Assignment-01 downloa

प्रश्न 1. एक तुलनात्मक सामाजिक नक्शा कया है। उदाहरण सहित समझाइये ?

Q.1 What is a Comparative Social Map Explain with examples.



प्रश्न क्रमांक 1 का उत्तर


1. पहला सामाजिक मानचित्र बीसवीं शताब्दी के प्रारंभ का है इन सामाजिक मानचित्र में डिजिटल प्रतिष्ठा और डिजिटल पहचान के बारे में गहन चर्चा की।

2. विश्व स्तर के खर्च के लिए बनाई गई बदबूदार काले सामान से पैदा हुई शानदार संपत्ति और ट्रेक्शन को सामाजिक मानचित्र पर रखा।

3. इसे उपयोगकर्ता के मित्रों और अन्य डेटा की समीक्षा ओं का उपयोग करने के लिए डिजाइन किया गया था जो अधिक सामाजिक मानचित्र बनाने में मदद कर सकता है।

4. एक सामाजिक मानचित्र ठीक वही दिखाता है जहां एक डिजिटल पहचान बनाई जाती है यह चर्चा की जाती है और प्रत्येक तत्व को संदर्भ और अनुपात में सेट करता है।

5. जो सब उसने सुचारू रूप से किया वह एक फिटर इनर थे जो सामाजिक मानचित्र को अनिवार्य रूप से पढ़ती थी और जानती थी कि उस पर अपना स्थान कैसे खोजना है।

6. उन्होंने आगे नोट किया की कहानी एक नए सामाजिक मानचित्र का प्रतिनिधि है जिसमें पारंपरिक संरचनाएं समय और नौकरशाही के औपनिवेशिक लोगों के अधीन है।

7. मार्केटिंग में एक सामाजिक मानचित्र किसी व्यक्ति ब्रांड या कंपनी की डिजिटल पहचान का एक दृश्य विश्लेषण है।

8. पुस्तक में कहा गया है अपनी दुल्हन और खुद को सामाजिक मानचित्र पर रखने के लिए जिस तरह के पैसे की जरूरत थी उसे सोलोमन ब्रदर्स की साझेदारी में दफनाया गया था।

प्रश्न 2. भारतीय समाज के बारे में संक्षिप्त परिचय दीजिये ?

Q.2 Give a brief Introduction about Indian Society?


प्रश्न क्रमांक 2 का उत्तर

भारतीय समाज की संस्कृति तथा समाज का आधार अत्यधिक प्राचीन है। अनेको नेक भारतीय सामाजिक संस्थाओं का विकास वैदिक युग में ही हो गया था। वैदिक युग में वर्ण व्यवस्था, आश्रम व्यवस्था, विवाह, धर्म, कर्म आदि का उद्धव एवं विकास हुआ, अपितु भारतीय समाज को आधार प्रदान किया। भारतीय समाज दुनिया के सबसे जटिल समाजों में एक है। इसमें कई धर्म जाति भाषा नस्ल के लोग बिल्कुल अलग-अलग तरह के भौगोलिक भू-भाग में रहते हैं, उनकी संस्कृतियां अलग है... आमतौर पर हम पश्चिम से लिए हुए सिद्धांतों के माध्यम से ही अपने समाज को समझने की कोशिश करते हैं। आधुनिक भारतीय समाज के प्रमुख विशेषता धर्मनिरपेक्षता है। यहां पर सभी व्यक्तियों को समान धार्मिक स्वतंत्रता प्राप्त है। धार्मिक स्वतंत्रता के परिणाम स्वरुप प्रत्येक व्यक्ति किसी भी धर्म को स्वीकार करने और उसका प्रचार व प्रसार करने के लिए स्वतंत्र होता है। राज्य किसी भी धार्मिक कार्य में कोई हस्तक्षेप नहीं करता है। प्रकृति के विविध रूप जैसे ऊंचे ऊंचे पहाड़, महासागर, वन, मरुस्थल व पठार आदि है। इस प्रादेशिक व भौगोलिक विविधता वाले विशाल भूखंड पर निवास करने वाला भारतीय समाज, विश्व के अति प्राचीन समाजों में से एक हैं। सेकंडों भाषाओं और बोलियों का यह देश अनेक आदिवासियों के सामाजिक जीवन की विचित्रताओं से युक्त है।

प्रश्न 3. जन सांख्यिकी से आप क्या समझते हैं। आकारिक जनसांख्यिकी को समझाइये?

Q.3 What do you understand by demography? Explain morphological demography?


प्रश्न क्रमांक 3 का उत्तर


जनसांख्यिकी, मानव जनसंख्या का सांख्यिकीय अध्ययन है। यह एक बहुत सामान्य ज्ञान हो सकता है जिसे किसी भी तरह की गति सीन मानवतावादी पर लागू किया जा सकता है अर्थ ऐसी आबादी जो समय और स्थान के साथ-साथ परिवर्तित होती है। इसमें जनसंख्या के आकार, संरचना और वितरण और जन्म, प्रवास, वय वृद्धि और मृत्यु के संदर्भ में स्थानिक या कालिक परिवर्तन का अध्ययन शामिल होता है। आकारिक जनसांख्यिकी प्रमुख रूप से जनसंख्या परिवर्तन के संघटकों के विश्लेषण तथा मापन से संबंध रखती हैं। इसके अंतर्गत मात्रात्मक विश्लेषण पर विशेष रूप से ध्यान केंद्रित किया जाता है जिसके लिए अत्यंत विकसित गणितीय विधि अपनाई जाती है।

प्रश्न 4 जनसांख्यिकी संक्रमण के सिद्धान्त का वर्णन कीजिये ? अंक-4 शब्दसीमा 75-100

Q.4 Explain the theory of demographic transition?


प्रश्न क्रमांक 4 का उत्तर

जनसांख्यिकीय संक्रमण एक जनसंख्या सिद्धांत है जो जनसांख्यिक इतिहास के आंकड़ों और सांख्यिकी पर आधारित है। इस सिद्धांत के प्रतिपादक W.M Thompson और Frank w nostean है। इन्होंने यूरोप, ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका में प्रजनन और मृत्यु दर की प्रवृत्ति के अनुभवों के आधार पर यह सिद्धांत दिया। जनसांख्यिकी संक्रमण सिद्धांत का उपयोग किसी क्षेत्र की जनसंख्या का वर्णन तथा भविष्य की जनसंख्या का पूर्वानुमान किया जा सकता है। यह सिद्धांत हमें बताता है कि जैसे ही समाज ग्रामीण, खेती घर तथा अशिक्षित अवस्था से उन्नति करके नगरीय औद्योगिक और साक्षर बनता है। किसी प्रदेश की जनसंख्या उच्च जन्म और उच्च मृत्यु से निम्न जन्म व निम्न मृत्यु में परिवर्तित होती है।

प्रश्न 5 ग्रामीणों के लिये नगर क्यों आकर्षण का केन्द्र बन रहे है ?


प्रश्न क्रमांक 5 का उत्तर


ग्रामीणों के लिए नगर के आकर्षण केंद्र होने के बहुत सारे कारण होते हैं एक तो नगरों में बहुत सारे ऐसे चीज होते हैं जो कि ग्रामीण पहली बार देखते हैं जैसे कि यहां के सिनेमाघर यहां के मॉल यहां के विभिन्न प्रकार की दुकान है जहां पर विभिन्न प्रकार के साजो सामान या फिर कपड़ों की दुकान या फल सब्जियों की दुकान जो कि गांव में बहुत कम देखने को मिलती है वह सारी चीजें उपलब्ध होते हैं फिर बड़े-बड़े ऑफिस से या बड़े-बड़े बिल्डिंग वह सारी चीजें यहां पर होती है जो कि गांव में देखने को नहीं मिलती हैं इसके अलावा यहां पर सामान की प्रचुरता और नौकरियों की प्रचुरता वह भी एक बहुत बड़ी चीज है जो कि ग्रामीणों को अपने गांव में देखने में नहीं मिलती है


Cg Board 12th Psychology August Assignment-01 Solution pdf download


Cg August Assignment-01: दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम आपको कक्षा बारहवीं Psychology अगस्त असाइनमेंट का पूरा हल बताने जा रहे हैं ।जैसा की आप सभी छात्रों को पता होगा कि छत्तीसगढ़ बोर्ड में अगस्त माह के असाइनमेंट चल रहे हैं,तो आप सभी को कक्षा बारहवीं के सभी असाइनमेंट का हल इस वेबसाइट पर पीडीएफ के रूप में मिलेगा ।



छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल, रायपुर

कक्षा - बारहवीं

विषय - मनोविज्ञान


प्रश्न 1. रॉबर्ट स्टर्नबर्ग के अनुसार बुद्धि का क्या अर्थ है? किस प्रकार विद्यापीय सिद्धांत बुद्धि को समझने में हमारी सहायता करता है? अंक 4 शब्दसीमा 75-100 Q. 1. What is the meaning of intelligence according to Robert Sternberg? How does the triarchic theory help us to understand intelligence?


प्रश्न क्रमांक 1 का उत्तर


बुद्धि एक ऐसा शब्द है जिसका प्रयोग हम अपने आम जीवन की दिनचर्या में करते हैं। लेकिन जितना हम अपने जीवन में बुद्धि के अर्थ को समझते हैं, बाल विकास, शिक्षा शास्त्र और मनोवैज्ञानिक में इसका अर्थ और महत्व कई ज्यादा है।

बुद्धि अंग्रेजी शब्द Intelligence का हिंदी वर्जन है। Intelligence लैटिन भाषा का शब्द है जो कि लैटिन भाषा के 2 शब्दों Inter एवं Legere से मिलकर बना है। बुद्धि के अर्थ के बारे में मनोवैज्ञानिकों के बीच मतभेद है, जिससे बुद्धि के किसी एक अर्थ में सहमति नहीं है।


त्रिचापीय सिद्धांत-


रॉबर्ट जे स्टर्नबर्ग ने मानव बुद्धि पर कार्य किया। इन्होंने मानव IQ को चुनौती देते हुए कहा कि जरूरी नहीं है, जिस व्यक्ति का IQ level कम हो वह अपने जीवन में सफल नहीं हो सकता है। तथा यह भी जरूरी नहीं है कि जिस व्यक्ति का IQ level अच्छा हो वह निश्चित ही अपने जीवन में सफल हो। एक सफल बुद्धिमान व्यक्ति की सफलता उसकी बुद्धि पर निर्भर करती है। प्रत्येक व्यक्ति में तीन प्रकार की बुद्धि होती है। तीन प्रकार मैं सेवाएं किसी भी प्रकार की बुद्धि के क्षेत्र में सफलता प्राप्त कर सकता है।


  1. घटकीय उपसिद्धांत

  2. अनुभवी उपसिद्धांत

  3. संदर्भात्मक उपसिद्धांत



प्रश्न 2. 'अभिक्षमता' 'अभिरुचि' और 'बुद्धि से कैसे भिन्न है? अभिक्षमता का मापन कैसे किया जाता है? Q. 2. How is aptitude different from interest and intelligence? How is aptitude measured?


प्रश्न क्रमांक 2 का उत्तर


भिन्न-भिन्न क्षेत्रों की यह विशिष्ट योग्यताएं तथा कौशल ही अभिक्षमताएं कहलाती हैं। उचित प्रशिक्षण देकर इन योग्यताओं में पर्याप्त अभी वृद्धि की जा सकती है। अभिरुचि का अर्थ है किसी व्यक्ति का किसी क्षेत्र में रुझान और सफलता प्राप्ति की रूचि होना।


अभिक्षमता का मापन अभिक्षमता परीक्षणों को उनकी प्रकृति के अनुसार प्रमुख रूप से दो वर्गों में विभाजित किया जा सकता है। 1.बहुअभिक्षमता परीक्षण माला- इस परीक्षण माला का तात्पर्य उन परीक्षण मालाओं से होता है जिसके द्वारा एक साथ कई क्षेत्रों में अंतर्निहित क्षमताओं का मापन होता है।


प्रश्न 4. बुद्धि क्या है? बुद्धि के प्रकारों को विस्तार से समझाइये। Q. 4. What is intelligence? Explain the types of intelligence in detail.



प्रश्न क्रमांक 4 का उत्तर


बुद्धि से तात्पर्य संज्ञानात्मक व्यवहारों के संपूर्ण वर्ग से होता है, जो व्यक्ति में सूझबूझ द्वारा समस्या का समाधान करने की क्षमता, नई परिस्थितियों के साथ समायोजन करने की क्षमता और अनुभवों से लाभ उठाने की क्षमता को दिखलाता है।

बुद्धि केवल एक योग्यता ही नहीं है परंतु इसमें अनेक तरह की योग्यताएं सम्मिलित होती हैं। इस उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए मनोवैज्ञानिक बैशलर ने बुद्धि को परिभाषित किया है। "बुद्धि एक समुच्चय या सार्वजनिक क्षमता है जिसके सहारे व्यक्ति उद्देश्य पूर्ण क्रिया करता है, विवेकपूर्ण चिंतन करता है तथा वातावरण के साथ प्रभाव कारी ढंग से समायोजन करता है।"


बुद्धि के प्रकार-


बुद्धि तीन प्रकार की होती हैं।


1.सामाजिक बुद्धि- सामाजिक बुद्धि वह सामान्य मानसिक क्षमता है जिसके आधार पर व्यक्ति अन्य व्यक्तियों को समझता है तथा व्यवहार कुशलता के साथ-साथ सामाजिक संबंधों को भी अच्छा बनाता है।


2. अमूर्त बुद्धि- अमूर्त चिंतन का तात्पर्य ऐसी मानसिक क्षमता से है जिसमें व्यक्ति शब्द तथा गणितीय संकेतों एवं चिन्हों को आसानी से समझ जाता है तथा उसकी व्याख्या कर लेता है।


3. मूर्त बुद्धि- मूर्त बुद्धि वह मानसिक क्षमता है जिसके आधार पर व्यक्ति ठोस वस्तुओं के महत्व को समझता है तथा उसका ठीक ढंग से भिन्न-भिन्न परिस्थितियों में परिचालन करना सीखता है।



प्रश्न 3. बुद्धि एक अकेली इकाई नहीं है, बल्कि अलग-अलग प्रकार की बुद्धिमताएँ मौजूद है। गाडर्नर के बुद्धि के सिद्धांत का प्रयोग करते हुए इस कथन की व्याख्या कीजिए। अंक 6 शब्दसीमा 150-200 Q. 3. Intelligence is not single entity, rather distinct types of intelligences exist. Explain the statement using Gardner's theory of intelligence.







Cg 12th समाजशास्त्र Masik Test paper Solution 2021| 12वी समाजशास्त्र मासिक टेस्ट पेपर हल



छत्तीसगढ़ बोर्ड अगस्त असाइनमेंट

कक्षा - बारहवीं

विषय - समाजशास्त्र



प्रश्न 1. एक तुलनात्मक सामाजिक नक्शा कया है। उदाहरण सहित समझाइये ?

Q.1 What is a Comparative Social Map Explain with examples.



प्रश्न क्रमांक 1 का उत्तर


1. पहला सामाजिक मानचित्र बीसवीं शताब्दी के प्रारंभ का है इन सामाजिक मानचित्र में डिजिटल प्रतिष्ठा और डिजिटल पहचान के बारे में गहन चर्चा की।

2. विश्व स्तर के खर्च के लिए बनाई गई बदबूदार काले सामान से पैदा हुई शानदार संपत्ति और ट्रेक्शन को सामाजिक मानचित्र पर रखा।

3. इसे उपयोगकर्ता के मित्रों और अन्य डेटा की समीक्षा ओं का उपयोग करने के लिए डिजाइन किया गया था जो अधिक सामाजिक मानचित्र बनाने में मदद कर सकता है।

4. एक सामाजिक मानचित्र ठीक वही दिखाता है जहां एक डिजिटल पहचान बनाई जाती है यह चर्चा की जाती है और प्रत्येक तत्व को संदर्भ और अनुपात में सेट करता है।

5. जो सब उसने सुचारू रूप से किया वह एक फिटर इनर थे जो सामाजिक मानचित्र को अनिवार्य रूप से पढ़ती थी और जानती थी कि उस पर अपना स्थान कैसे खोजना है।

6. उन्होंने आगे नोट किया की कहानी एक नए सामाजिक मानचित्र का प्रतिनिधि है जिसमें पारंपरिक संरचनाएं समय और नौकरशाही के औपनिवेशिक लोगों के अधीन है।

7. मार्केटिंग में एक सामाजिक मानचित्र किसी व्यक्ति ब्रांड या कंपनी की डिजिटल पहचान का एक दृश्य विश्लेषण है।

8. पुस्तक में कहा गया है अपनी दुल्हन और खुद को सामाजिक मानचित्र पर रखने के लिए जिस तरह के पैसे की जरूरत थी उसे सोलोमन ब्रदर्स की साझेदारी में दफनाया गया था।

प्रश्न 2. भारतीय समाज के बारे में संक्षिप्त परिचय दीजिये ?

Q.2 Give a brief Introduction about Indian Society?


प्रश्न क्रमांक 2 का उत्तर

भारतीय समाज की संस्कृति तथा समाज का आधार अत्यधिक प्राचीन है। अनेको नेक भारतीय सामाजिक संस्थाओं का विकास वैदिक युग में ही हो गया था। वैदिक युग में वर्ण व्यवस्था, आश्रम व्यवस्था, विवाह, धर्म, कर्म आदि का उद्धव एवं विकास हुआ, अपितु भारतीय समाज को आधार प्रदान किया। भारतीय समाज दुनिया के सबसे जटिल समाजों में एक है। इसमें कई धर्म जाति भाषा नस्ल के लोग बिल्कुल अलग-अलग तरह के भौगोलिक भू-भाग में रहते हैं, उनकी संस्कृतियां अलग है... आमतौर पर हम पश्चिम से लिए हुए सिद्धांतों के माध्यम से ही अपने समाज को समझने की कोशिश करते हैं। आधुनिक भारतीय समाज के प्रमुख विशेषता धर्मनिरपेक्षता है। यहां पर सभी व्यक्तियों को समान धार्मिक स्वतंत्रता प्राप्त है। धार्मिक स्वतंत्रता के परिणाम स्वरुप प्रत्येक व्यक्ति किसी भी धर्म को स्वीकार करने और उसका प्रचार व प्रसार करने के लिए स्वतंत्र होता है। राज्य किसी भी धार्मिक कार्य में कोई हस्तक्षेप नहीं करता है। प्रकृति के विविध रूप जैसे ऊंचे ऊंचे पहाड़, महासागर, वन, मरुस्थल व पठार आदि है। इस प्रादेशिक व भौगोलिक विविधता वाले विशाल भूखंड पर निवास करने वाला भारतीय समाज, विश्व के अति प्राचीन समाजों में से एक हैं। सेकंडों भाषाओं और बोलियों का यह देश अनेक आदिवासियों के सामाजिक जीवन की विचित्रताओं से युक्त है।

प्रश्न 3. जन सांख्यिकी से आप क्या समझते हैं। आकारिक जनसांख्यिकी को समझाइये?

Q.3 What do you understand by demography? Explain morphological demography?


प्रश्न क्रमांक 3 का उत्तर


जनसांख्यिकी, मानव जनसंख्या का सांख्यिकीय अध्ययन है। यह एक बहुत सामान्य ज्ञान हो सकता है जिसे किसी भी तरह की गति सीन मानवतावादी पर लागू किया जा सकता है अर्थ ऐसी आबादी जो समय और स्थान के साथ-साथ परिवर्तित होती है। इसमें जनसंख्या के आकार, संरचना और वितरण और जन्म, प्रवास, वय वृद्धि और मृत्यु के संदर्भ में स्थानिक या कालिक परिवर्तन का अध्ययन शामिल होता है। आकारिक जनसांख्यिकी प्रमुख रूप से जनसंख्या परिवर्तन के संघटकों के विश्लेषण तथा मापन से संबंध रखती हैं। इसके अंतर्गत मात्रात्मक विश्लेषण पर विशेष रूप से ध्यान केंद्रित किया जाता है जिसके लिए अत्यंत विकसित गणितीय विधि अपनाई जाती है।

प्रश्न 4 जनसांख्यिकी संक्रमण के सिद्धान्त का वर्णन कीजिये ? अंक-4 शब्दसीमा 75-100

Q.4 Explain the theory of demographic transition?


प्रश्न क्रमांक 4 का उत्तर

जनसांख्यिकीय संक्रमण एक जनसंख्या सिद्धांत है जो जनसांख्यिक इतिहास के आंकड़ों और सांख्यिकी पर आधारित है। इस सिद्धांत के प्रतिपादक W.M Thompson और Frank w nostean है। इन्होंने यूरोप, ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका में प्रजनन और मृत्यु दर की प्रवृत्ति के अनुभवों के आधार पर यह सिद्धांत दिया। जनसांख्यिकी संक्रमण सिद्धांत का उपयोग किसी क्षेत्र की जनसंख्या का वर्णन तथा भविष्य की जनसंख्या का पूर्वानुमान किया जा सकता है। यह सिद्धांत हमें बताता है कि जैसे ही समाज ग्रामीण, खेती घर तथा अशिक्षित अवस्था से उन्नति करके नगरीय औद्योगिक और साक्षर बनता है। किसी प्रदेश की जनसंख्या उच्च जन्म और उच्च मृत्यु से निम्न जन्म व निम्न मृत्यु में परिवर्तित होती है।

प्रश्न 5 ग्रामीणों के लिये नगर क्यों आकर्षण का केन्द्र बन रहे है ?


प्रश्न क्रमांक 5 का उत्तर


ग्रामीणों के लिए नगर के आकर्षण केंद्र होने के बहुत सारे कारण होते हैं एक तो नगरों में बहुत सारे ऐसे चीज होते हैं जो कि ग्रामीण पहली बार देखते हैं जैसे कि यहां के सिनेमाघर यहां के मॉल यहां के विभिन्न प्रकार की दुकान है जहां पर विभिन्न प्रकार के साजो सामान या फिर कपड़ों की दुकान या फल सब्जियों की दुकान जो कि गांव में बहुत कम देखने को मिलती है वह सारी चीजें उपलब्ध होते हैं फिर बड़े-बड़े ऑफिस से या बड़े-बड़े बिल्डिंग वह सारी चीजें यहां पर होती है जो कि गांव में देखने को नहीं मिलती हैं इसके अलावा यहां पर सामान की प्रचुरता और नौकरियों की प्रचुरता वह भी एक बहुत बड़ी चीज है जो कि ग्रामीणों को अपने गांव में देखने में नहीं मिलती है।



Cg Board 12th Economics August Assignment-01 Solution pdf download


Cg August Assignment-01: दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम आपको कक्षा बारहवीं Economics अगस्त असाइनमेंट का पूरा हल बताने जा रहे हैं ।जैसा की आप सभी छात्रों को पता होगा कि छत्तीसगढ़ बोर्ड में अगस्त माह के असाइनमेंट चल रहे हैं,तो आप सभी को कक्षा बारहवीं के सभी असाइनमेंट का हल इस वेबसाइट पर पीडीएफ के रूप में मिलेगा ।




कक्षा बारहवीं

विषय अर्थशास्त्र



प्रश्न 1 समष्टि अर्थशास्त्र व्यष्टि अर्थशास्त्र से कैसे भिन्न है? समझाइए।

प्रश्न क्रमांक (1) का उत्तर


Ans- 1.अर्थशास्त्र में बाजार शब्द का अर्थ एक विशेष स्थान से नहीं है बल्कि यह एक तंत्र है जिसके माध्यम से क्रेता विक्रेता एक दूसरे से संपर्क में आते हैं और आपसी सहमति वाली कीमतों को पर वस्तुओं का क्रम या विक्रय करते हैं।


2. क्रेता तथा विक्रेता की सी बाजार के अस्तित्व के लिए कृतार्था विक्रेताओं का आपस में संपर्क अनिवार्य है केवल  क्रेता तथा विक्रेताओं में संपर्क होने पर ही कोई सौदा होता है।


3. मनुष्यों की आबादी के पास आपको आसानी से बाजार मिल जाएगा , किंतु वर्तमान विश्व में बाजार किसी एक स्थान विशेष तक सीमित नहीं है आज के इंटरनेट के युग में ऑनलाइन बाजार में तेजी से वृद्धि हो रही है जो किसी भौगोलिक क्षेत्र तक सीमित नहीं है एक क्रेता एक वस्तु का क्रय करने के लिए।


4. वस्तु क्रेता तथा विक्रेता के बीच सौदा किसी वस्तु तथा सेवा का ही हो सकता है इसलिए एक वस्तु बाजार का अंतरंग भाग हो जाती है।


5. प्रतियोगिता के विभिन्न प्रकार बाजार एक प्रकार वस्तुओं को बेचने वाले विक्रेताओं में प्रतियोगिता की मात्रा पर निर्भर करता है जहां प्रतियोगिता की मात्रा अब आपने इस बात पर निर्भर करती है कि विभिन्न विक्रेताओं द्वारा बेची जाने वाली वस्तुओं और सेवाओं तथा बाजार में उपस्थित विक्रेताओं की संख्या कितनी है।



प्रश्न 2. विभिन्न अर्थव्यवस्थाओं में केन्द्रीय समस्याओं का समाधान कैसे होता है?


प्रश्न क्रमांक ( 2)का उत्तर


पूर्ण प्रतियोगिता बाजार में वस्तु की कीमत उद्योग की कुल भोग एवं पूर्ति की सापेक्षिक शक्तियों द्वारा निर्धारित होती है मांग करने वाला क्रेताओ का समूह होता है। जो निरंतर कम कीमत पर वस्तु खरीदने की प्रत्यय सील रहता है तथा उसकी कीमत की समूह होता है दूसरी ओर विक्रेताओं का समूह होता है जो ज्यादा कीमत पर वस्तु बेचना चाहता है इस की न्यूनतम सीमा सीमांत लगभग होती है ।

निम्न तालिका में विभिन्न कीमतों पर वस्तु की मांग व पूर्ति दर्शाई गई है।



वस्तु की कीमत 1 में

वस्तु की मांग इकाई में

वस्तु की पूर्ति

संख्या

1

50

10

2

40

20

3

30

30

4

20

40

5

10

50


बस तालिका के आंकड़ों को रेखा चित्र के रूप में प्रस्तुत करके और स्पष्ट किया जा सकता है।


छत्तीसगढ़ बोर्ड असाइनमेंट कक्षा 12वीं अर्थशास्त्र Solution


प्रश्न 3. उत्पादन संभावना वक्र से क्या अभिप्राय है? इस वक्र के प्रयोग से केन्द्रीय समस्या 'क्या उत्पादन करे' को स्पष्ट कीजिए ।

प्रश्न क्रमांक 3 का उत्तर


साधन लागत पर सकल मूल्य वृद्धि की गणना निम्न प्रकार की जाएगी


बाजार कीमत पर सकल उत्पादन मूल्य = 10,500 रुपए

+ आर्थिकअनुदान = + 200 रुपए

-मध्यवर्ती अनुदान = +4000 रुपए

-अप्रत्यक्ष कर = - 750 रुपए 5950 रुपए


प्रश्न 4. एक उदाहरण की सहायता से अवसर लागत की अवधारणा को स्पष्ट कीजिए ।

प्रश्न क्रमांक 4 का उत्तर


 1.पारिवारिक उपभोग मांग - पारिवारिक क्षेत्र में व्यक्ति परिवार तथा परिवारों की सेवा में सलगन और लाभकारी संगठन होते हैं यह सभी आवश्यकताओं को संतुष्ट के लिए अंतिम वस्तुओं और सेवाओं का उपयोग करते हैं व्यक्ति और परिवारों टिकाऊ तथा गैर टिकाऊ दोनों प्रकार की वस्तुओं की मांग करते हैं टिकाऊ वस्तुओं के उदाहरण हैं टेलीविजन ,रेफ्रिजरेटर ,कपड़े धोने की मशीन, कार ,स्कूटर, मोटरसाइकिल फर्नीचर, आदि गैर टिकाऊ वस्तु में खाद तथा गैर खाद्य वस्तुएं सम्मिलित होती हैं।


2. उत्पादकों अथवा फार्म का निवेश मांग - फार्म तथा उत्पादक आगे उत्पन्न के लिए वस्तुओं और सेवाओं की मांग करते हैं फर्म द्वारा किसी वस्तु का उत्पादन करने के लिए वस्तुओं की मांग निवेश करती है फर्म पूंजीगत वस्तुओं जैसे मशीन और उपरकरो की मांग करती है वे आगे उत्पादन के लिए मध्यवर्ती वस्तुओं की भी मांग करती हैं।


3. सरकारी व्यय - सरकार एक महत्वपूर्ण क्षेत्र है जो जनता की भलाई के लिए वस्तुओं तथा सेवाओं खरीदते हैं इसलिए सरकार द्वारा सभी के मध्यवर्ती वस्तु में कहलाते हैं सरकार सेवाएं जैसे कानून व्यवस्था सुरक्षा शिक्षा स्वास्थ्य आदि उपलब्ध कराती है इन सेवाओं को उपलब्ध कराने के लिए सरकार विभिन्न मंत्रालयों तथा विभागों के माध्यम से कार्य करती है।


4. शेष विश्व द्वारा घरेलू देश के परिवार जिस प्रकार देश के अंदर वस्तुएं सेवाएं खरीदते हैं। एस एस एस विश्व का आयात अथवा घरेलू देश का निर्यात कहते हैं।


प्रश्न 5 सीमांत अवसर लागत क्या हैं? इनके बढ़ने के कारण लिखिए।

प्रश्न क्रमांक 5 का उत्तर


किसी अर्थव्यवस्था में वाणिज्य बैंक सामान्यता निम्न कार्य करते हैं।

  1. जमा स्वीकार करना वाणिज्यिक बैंक समाज के विभिन्न वर्गों से जमा स्वीकार करते हैं जिसमें साधारण जनता व्यापारिक संगठन और अन्य सेवाएं सम्मिलित है वाणिज्य बैंक निम्न प्रकार की जुम्मा स्वीकार करते हैं।

  2. चालू खाता जमाए

  3. बचते खाता जमाए

  4. पिस्टल जमा समय जमा सावधि जमा

  5. रेड और अग्रिम प्रदान करना किसी वाणिज्यिक बैंक का यह दूसरा महत्वपूर्ण कार्य है यह किसी भी वर्जित बैंक की आय का महत्वपूर्ण साधन है अपनी जमा राशि में कुछ प्रतिशत भाग सुरक्षित को कोषों कर अतिरिक्त बचत को यह बैंक जमा करते हैं।









10 Post a Comment

और नया पुराने