MP Board class 11th prashna bank 2021 Download

Top afd

MP Board class 11th prashna bank 2021 Download

MP Board class 11th prashna bank 2021 Download| With solution |PDF Download

MP board class 11 prashn Bank 2021, class 11 prashn Bank, MP board question Bank 11th, question Bank download 2021 class 11, prashn Bank download class 11,
MP board class 11 prashn Bank 2021, class 11 prashn Bank, MP board question Bank 11th, question Bank download 2021 class 11, prashn Bank download class 11,

1-कबीर ने अपने को दीवाना क्यों कहा है ?


उत्तर - यहां दीवाना का अर्थ है पागल ।कबीर दास ने परमात्मा का सच्चा रूप पा लिया है । वे उसकी भक्ति में लीन है , जबकि संसार बाहय आडंबरो में उलझ कर ईश्वर की खोज कर रहा है ।अतः कबीर की भक्ति आम विचारधारा से अलग है इसलिए वह स्वयं को दीवाना कहता है ।


2-कबीर ने नियम और धर्म का पालन करने वाले लोगों की किन कमियों की ओर संकेत किया है?


उत्तर-कबीर ने नियम और धर्म का पालन करने वाले लोगों की निम्नलिखित कमियों की ओर संकेत किया है-


1-प्रात काल स्नान करने वाले पत्थरों वृक्षों की पूजा करने वाले अंधविश्वासी हैं ।बे धर्म के सच्चे स्वरूप को नहीं पहचान पाते तथा आत्म विज्ञान से वंचित रहते हैं ।


2-मुसलमान भी पीर औलियों की बात का अनुसरण करते हैं ।हेमंत आदि लेने में विश्वास रखते हैं ।ईश्वर सबके हृदय में विद्वान हैं परंतु यह उसे पहचान नहीं पाते ।


3-लोग मीरा को बाबरी क्यों कहते हैं ?

उत्तर -

 दीवानी मीरा कृष्ण भक्ति में अपनी सुध- बुध खो चुकी है। उसे संसार की किसी परंपरा , रीति रिवाज, मर्यादा अथवा लोक -लाज का ध्यान नहीं है। इसलिए लोग उसे बाबरी कहते हैं। संसारी लोग मीरा की भक्ति की पराकाष्ठा को पागलपन मानते हैं। मीरा राजसी वैभव और सुख को ठुकरा कर कृष्ण भजन गाते हुए घूम रही है ऐसा कार्य तो कोई पागलपन ही कर सकता है। 


4 - लोक लाज खोने का अभिप्राय क्या है?

उत्तर -

 मीरा का विवाह राजपूत राज परिवार में हुआ था। वह महिलाएं पर्दे में रहती थी। उन्हें मंदिरों में नाचने , संतो के साथ बेठने , परपुरुष के साथ संबंध बनाने का अधिकार नहीं था। ऐसे कार्य करने वाली महिलाओं को समाज से प्रताड़ना मिलती थी । मीरा ने यह सभी वंधन तोड़े और लोक लाज खो दी । लोक लाज खोने का अर्थ है - समाज की मर्यादाओं को तोड़ ना ।


5-मीरा ने शहज मिले अविनाशी क्यों कहा है?

उत्तर -

 मीरा के अनुसार कृष्ण का जो रूप , जो संबंध ( पति ) उन्होंने पाया वह बिल्कुल शहजता से ,बिना किसी बाह्माडंबर के मीरा की व्यक्तिगत अनुभूति रही है। अत: मीरा ने उन्हें सहज मिले अविनाशी कहा है। 


6-कवि को उन आंखों से डर क्यों लगता है?


उत्तर -

 किसान की आंखों में करुणा , पीड़ा व दीनता का भाव भरा है। इसमें भय व खालीपन है। कवि उसका सामना नहीं कर सकता। इस कारण उसे उन आंखों से डर लगता है। 


प्रश्न 7 उजरी कौन थी? उनकी विशेषताएं बताइए ।


उत्तर -

आशय - किसान के खेत खलियान ,घर - द्वार सब बिक चुके हैं , फिर भी महाजन ने ब्याज की एक कौड़ी तक नहीं छोड़ी। वसूली करने के लिए महाजन ने बैलों की जोड़ी भी नीलाम करवा दी। इन पंक्तियों में किसान को अपनी उजली सफेद गाय की याद आ रही है जो अब किसान के पास नहीं है। किसान सोच रहा है कि वह तो मेरी पत्नी के अतिरिक्त किसी से दूध ही नहीं दुहाती थी तो अब महाजन के घर मेरी गाय की दशा क्या होगी ।जो भी उसके पास आता होगा उसे सीख मारती होगी या फिर भी लोग मेरी उजरी को पीटते होंगे। इसी प्रकार सोच सोच कर किसान की आंखों मैं उस समय के चित्र नाच उठे हैं जिस समय वह खुश था।ऐसी बातें याद करते हुए उसको मन घोर निराशा और दुख से भर जाता है ।



घ ) कवि को किसान की आंखों से डर लगता है परंतु फिर भी वह उसका वर्णन करता है क्योंकि वह समाज को उसके कष्टों हुआ समाज के उपेक्षापूर्ण रवैया के बारे में बताना चाहता है ।


9-पानी के रात भर गिरने और प्राण -मन के गिरनी में परस्पर क्या संबंध है?

उत्तर -

कवी अपने घर से बहुत दूर जेल में कैद है। उसे घर से दूर रहने की पीड़ा है। आकाश में बादल घिर कर बारिश करने लगते हैं। ऐसे में कभी के मन को स्मृतियां गिर रही है। जैसे जैसे पानी गिर रहा है वैसे-वैसे कवि के हृदय में प्रियजनों की स्मृतियां चलचित्र की तरह उभरती जा रही है। पानी के बरसने के कारण ही उसके प्राण वामन घर की याद में व्याकुल हो जाते हैं ।


10-कवी अपनी वास्तविक स्थिति को पिता से क्यों छुपाना चाहता है?


उत्तर -

 वह पिताजी को सिर्फ अपनी सुखात्मक अनुभूति या कराना चाहता है । इसके लिए वह सावन को सब कुछ बता कर भी उसे सिर्फ अच्छी बातें बताने के लिए कहता है। यदि पिता को जेल के कष्ट व कवि की मानसिक दशा का पता चलेगा तो वह बहुत दुखी होंगे। क वी  पिता की तुलना बरगद के वृक्ष से करते हैं।  वे बुढ़ापे में शारीरिक कार्य करते हैं व्यायाम करते हैं ,हँसमुख हैं ,परंतु दिल बेहद संवेदनशील व कोमल है ।


11-कभी उम्र भर के लिए पलायन क्यों करना चाहता है?

उत्तर - 


12 -दरख्तों के साए में धूप कैसे लग सकती है।

उत्तर

जब रक्षक ही भक्षक बन जाते हैं ,शासक शोषक का रूप धारण कर लेते हैं ,रिश्तेदार और मित्र जड़ खोदने लग जाते हैं। तो पेड़ों के साए में भी शीतलता नहीं मिलती बल्कि धूप की तपिश का एहसास होता है। 


13- माटी का रंग प्रयोग करते हुए किस बात की ओर संकेत किया गया है?

उत्तर -

कवयित्री ने माटी का रंग प्रयोग करके स्थानीय विशेषताओं को उजागर करना चाहा है। संथाल परखने के लोगों में जुझारूपन , अक्खड़ता , नाच -गान सरलता आदि विशेषताएं जमीन से जुड़ी है। कवित्री चाहती है कि आधुनिकता के चक्कर में हम अपनी संस्कृति को ही ना समझे। हमें अपनी पहचान बनाए रखना चाहिए। 


14-लेखिका की प्राकृतिक परिवेश में कौन से सुखद अनुभव है? 

उत्तर -

लेखिका ने संथाल परगना के प्राकृतिक परिवेश में निम्नलिखित सुखद अनुभव बताए हैं -

  1. जंगल की ताजी हवा

  2. नदियों का निर्मल जल

  3. पहाड़ों की शांति

  4. गीतों की मधुर धुनें

  5. मिट्टी की स्वाभाविक सुगंध

  6. लहराती फसलें ।


15-लेखिका सहजीवन के लिए क्या आवश्यक मानती है


लेखिका शहज जीवन जीने के लिए प्राकृतिक सौंदर्य स्वाभाविक नाच - गान , उन्मुख हंसी और रूदन , खेलने के लिए खुली जगह पशुओं के लिए चारागाह और फूलों के लिए शांति आवश्यक मानती है ।



2 टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने