3 marks questions for 10th social science MP board

Top afd

3 marks questions for 10th social science MP board

3 marks questions for 10th social science MP board /most important question social science class 10th 2021

3 marks questions for 10th social science MP board
Class 10th MP board

100% in their MP Board board exam but in order to score good marks in MP Board Board exams, students should also give 100% dedication. Preparing from social science class 10 important questions with answers would also be a really good strategy for all MP Board 10th 2020 board students.




                           अंक 3


प्रश्न मानव जीवन में मृदा का क्या महत्व है?
उत्तर
मानव जीवन में मृदा का अत्यधिक महत्व है। समस्त मानव जीवन मिट्टी पर निर्भर करता है। समस्त प्राणियों का भोजन प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से मिट्टी से प्राप्त होता है। वस्तुओं के निर्माण में प्रयुक्त कपास, रेशम, जुट प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से मिट्टी से ही मिलते हैं। पशुपालन उद्योग कृषि और वनोद्योग आदि मिट्टी पर आधारित हैं ।अतः मिट्टी मानव जीवन का प्रमुख आधार है।

mp board social science class 10 important questions pdf

प्रश्न सामाजिक वानिकी योजना क्या है?
उत्तर
सामाजिक वानिकी योजना वृक्षारोपण की योजना है जो विश्व बैंक से वित्तीय सहायता प्राप्त कर शुरू की गई है। इसमें चक वानिकी विस्तार वानिकी एवं शहरी वानिकी के अंतर्गत खेतो,सड़कों ,रेल लाइन के किनारे वृक्षारोपण किया जाता है।इस योजना के अंतर्गत स्कूलों व कॉलेजों में हर बच्चे के लिए एक पेड़ यह नारा विकसित किया गया है। वन महोत्सव का प्रचार प्रसार कर फॉर्म वृक्षारोपण सड़कों, नेहरो एवं रेल लाइनों के किनारे वृक्षारोपण कर जन भागीदारी को बढ़ावा दिया गया है। वन कानूनों को प्रभावी ढंग से लागू करके हरे-भरे वृक्षों को काटने पर रोक लगाई गई है।

mp board social science class 10 important questions pdf




प्रश्न वनों से होने वाले प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष लाभ कौन-कौन से हैं? लिखिए।
उत्तर
वनों से होने वाले प्रत्यक्ष लाभ निम्नलिखित हैं -

(1) लकड़ी की प्राप्ति- वनों से प्राप्त लकड़ी एक महत्वपूर्ण ईधन है वृक्षों से साबुन ,साल, शीशम ,चीड़, देवदार ,आबनूस, चंदन आदि की लकड़ी मिलती है। लकड़ी से फर्नीचर बनाया जाता है।

(2) रोजगार प्राप्ति  व्यक्तियों- वनों पर 7.8 करोड़ व्यक्तियों की आजीविका आश्रित है। से जो कच्चे पदार्थ मिलते हैं उनके बहुत से उद्योग चल रहे हैं और करोड़ों व्यक्तियों को रोजगार मिल रहे हैं।

(3) जानवरों के लिए चारागाह- वन क्षेत्र चारागाह स्थल हैं। वनों से जानवरों के लिए घास व पत्तियां मिलती हैं।

(4) विदेशी मुद्रा की प्राप्ति - वनों से प्राप्त लाख, तारपीन का तेल, चंदन का तेल, लकड़ी से बनी कलात्मक वस्तुओं को निर्यात करने से विदेशी मुद्रा प्राप्त होती है।


           वनों से होने वाले अप्रत्यक्ष लाभ.                  

(1) मिट्टी के कटाव में कमी - वनों के कारण मिट्टी की ऊपरी सतह नहीं बह पाती है । इससे मिट्टी के पोषक तत्वों में कमी नहीं होती एवं मिट्टी उपजाऊ बनी रहती है।

(2) जलवायु को सम बनाए रखना - वन ठंडी वायु के प्रवाह को रोकते हैं , गर्म व तेज हवाओं के प्रभाव को कम करते हैं। इससे वन क्षेत्र की जलवायु समशीतोष्ण बनी रहती है।

(3) रेगिस्तान के प्रसार पर रोक - वनों से रेगिस्तान का प्रसार रुकता है।

(4) वर्षा में सहायक - वनों को वर्षा का संचालक कहा जाता है। वन बादलों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। जिससे वर्षा होती है।

(5) ऑक्सीजन की मात्रा पर प्रभाव - वन ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ाने में सहायक होते हैं।





प्रश्न खनिज पदार्थ का क्या महत्व है?
उत्तर
                     खनिज पदार्थ का महत्व

खनिज पदार्थ आधुनिक औद्योगिक उन्नति का आधार है। कारखानों में लगी मशीनें , पानी में तैरती जहाज, हवा में उड़ान भरते हवाई जहाज , ऊंची ऊंची इमारते में विभिन्न प्रकार के उपकरण, अस्त्र-शस्त्र सिक्के आदि वस्तुएं विभिन्न प्रकार की धातुओं से बनती हैं। यह धातुएँ खनिज पदार्थों की ही देन हैं। देश के औद्योगिक विकास का आधार विभिन्न प्रकार के खनिज पदार्थ ही हैं । यदि मानव समाज के पास धातुएँ व  खनिज ना होते तो आज औद्योगिक उत्पादन व विकास बहुत कम होता।



प्रश्न रवि वा खरीफ की फसल में अंतर लिखिए?

उत्तर-           
                 रवि और खरीफ की फसल में अंतर

रवि की फसल -
1- यह फसलें शरद ऋतु के आरंभ अक्टूबर-नवंबर में बोई जाती हैं।

2- यह फसलें ग्रीष्म ऋतु के आरंभ मार्च-अप्रैल में काटी जाती हैं।

3- इसकी मुख्य फसलें गेहूॅ , जो, चना, सरसों और अलसी जैसे तेल निकालने के बीज आदि हैं।

4- इन फसलों को पकने में अपेक्षाकृत अधिक समय लगता है।

5- इन फसलों को सिंचाई की आवश्यकता होती है।

खरीफ की फसल -

1- यह फसलें वर्षा ऋतु के आरंभ जून-जुलाई में बोली जाती हैं।

2- यह फसले शरद ऋतु के आरंभ अक्टूबर-नवंबर में काटी जाती हैं।

3 -इसकी प्रमुख फसलें चावल, ज्वार, बाजरा, मक्का, कपास पटसन, तथा मूंगफली आदि हैं।

4- इन फसलों को पकने में कम समय लगता है।

5- यह फसलें मानसूनी वर्षा पर आधारित होती हैं।




प्रश्न हरित क्रांति से आप क्या समझते हैं?
उत्तर-
                              हरित क्रांति

हरित क्रांति से तात्पर्य कृषि उत्पादन में हुई उस तीव्र वृद्धि से है जो अधिक उपज देने वाले बीजों रासायनिक उर्वरकों व नई तकनीक के प्रयोग के परिणाम स्वरूप हुई है। इस हरित क्रांति के फलस्वरूप कृषि की उत्पादकता में काफी वृद्धि हुई है। भारतीय कृषि में उन्नत किस्म के बीजों का प्रयोग बढ़ता जा रहा है। पंजाब हरियाणा, उत्तर प्रदेश, गुजरात, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में गेहूं व चावल का अधिक उत्पादन उन्नत किस्म के बीजों की देन है।




प्रश्न आधुनिक युग में लोहे का क्या महत्व है?
उत्तर-
                     आधुनिक युग में लोहे का महत्व
भूगर्भ से प्राप्त होने वाले खनिजों में लौह अयस्क सबसे अधिक महत्वपूर्ण खनिज है । यह धरातल में सुलभ और प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होने वाला खनिज है। मानव के विकास में लोहे का महत्वपूर्ण योगदान है। यह केवल औद्योगिक ढांचे की रीढ़ ही नहीं बल्कि आधुनिक युग के प्रत्येक क्षेत्र की आधारशिला है।
                            वर्तमान में मनुष्य के उपयोग में आने वाली छोटी-छोटी वस्तुएं जैसे सुई, ब्लेड, ऑल पेन, चाकू आदि से लेकर विशाल मशीनें, ट्रैक्टर, मोटर वायुयान, रेल, अस्त्र-शस्त्र आदि सभी वस्तुओं का निर्माण लोहे से होता है। लोहे का प्रयोग भवन बनाने, कारखानों का निर्माण करने, वस्त्र बनाने आदि अनेक आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु किया जाता है। मानव जीवन की प्रत्येक आवश्यकताओं को पूरा करने और जीवन को सुखमय बनाने में लौह अयस्क का महत्वपूर्ण योगदान है। यदि लोहे का अभाव होता तो आज आर्थिक प्रगति एवं औद्योगिक विकास बिल्कुल संभव नहीं होता। अतः वर्तमान युग में लौह अयस्क विकास के जन्मदाता हैं।




प्रश्न उद्यानिकी विकास कार्यक्रम के प्रमुख प्रावधान बताइए?
उत्तर
              उद्यानिकी विकास कार्यक्रम के प्रमुख प्रावधान

1- कलम बैंक स्थापित करना पर्याप्त गुणवत्ता वाले पौधों का उत्पादन एवं पूर्ति क्षमता बढ़ाना।

2- बागवानी फसलों के उत्पादन और उत्पादकता में वृद्धि करना।

3- मिट्टी एवं पत्तियों के परीक्षण हेतु प्रयोगशालाओं को चलाएं पाली हाउस ग्रीन हाउस की सुविधाएं बढ़ाना।

4- निर्यात के लिए उच्च किस्म की बागवानी फसलों का उत्पादन बढ़ाना।

5- उच्च किस्म के प्रसंस्करण उत्पादों की पैदावार बढ़ाना।

6- विपणन एवं निर्यात के लिए मूलभूत सुविधाओं में वृद्धि करना।


10th class social science most important question

प्रश्न भारतीय शासकों में असंतोष के क्या कारण थे?
उत्तर
          भारतीय शासकों में असंतोष के कारण
अंग्रेजों की राज्य विस्तार की नीति के कारण भारत के अनेक शासकों और जमीदारों में असंतोष व्याप्त हो गया था । लार्ड वेलेजली की सहायक संधि व्यवस्था और लॉर्ड डलहौजी की हड़प नीति के कारण अनेक राज्यों को अंग्रेजी साम्राज्य में जबरदस्ती विलय कर दिया गया । अंग्रेजों ने पंजाब , सिक्किम , सतारा, जैतपुर, संभलपुर, झांसी, नागपुर आदि राज्यों को अपने अधीन कर लिया था। सरकार ने अवध, तंजौर, कर्नाटक के नवाबों की राजकीय उपाधियां समाप्त कर राजनीतिक अस्थिरता की स्थिति उत्पन्न कर दी। अंतिम मुगल सम्राटों के प्रति अंग्रेजों का व्यवहार अनादर पूर्ण होता चला गया। इन परिस्थितियों में शासन परिवारों में घबराहट फैल गई अंग्रेजों ने जिन राज्यों पर कब्जा किया वहां के सैनिक , कारीगर तथा अन्य व्यवसायों में जुड़े लोग भी प्रभावित हुए अंग्रेजों ने अनेक सरदारों और जमीदारों से उनकी जमीन छीन ली इसके कारण भारतीय शासकों में असंतोष व्याप्त हो गया।

खरीफ की फसल किसे कहते हैं,खनिज संसाधन क्या है class 10th social science,खनिज तथा ऊर्जा संसाधन PDF,वनों से होने वाले प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष लाभ,वनों से होने वाले कोई पांच लाभ बताइए,हरित क्रांति से आप क्या समझते हैं उत्तर,हरित क्रांति की समस्या,विश्व में हरित क्रांति की शुरुआत,आधुनिक युग में लोहे का क्या महत्व है समझाइए, सैनिकों में असंतोष के क्या कारण थे,भारतीय शासकों में असंतोष के कारण बताइए,1857 के स्वतंत्रता संग्राम को प्रथम स्वतंत्रता संग्राम क्यों कहा जाता है,तात्या टोपे class 10th,



प्रश्न 1857 के स्वतंत्रता संग्राम को प्रथम स्वतंत्रता संग्राम क्यों कहा जाता है?
उत्तर-

1857 ईसवी का स्वतंत्रता संग्राम अंग्रेजों के अत्याचार एवं शोषण नीतियों के परिणाम स्वरूप था, जिसकी पहल भारतीय क्रांतिकारी सैनिक द्वारा हुई उनको जनता के हर वर्ग कृषक, श्रमिक एवं दस्त कारों तथा हर संप्रदाय हिंदू व मुसलमानों का प्रथम बार हर क्षेत्र में समर्थन व सहयोग प्राप्त हुआ 'तथा यह पहला विद्रोह था जिसमें जनसाधारण ने बड़े स्तर पर भाग लिया। अतः इसे भारत का प्रथम स्वतंत्रता संग्राम कहां गया।



प्रश्न टिप्पणी लिखिए
उत्तर 
                           तात्या टोपे

तात्या टोपे 1857 की उन वीर सेनानियों में से एक थे जिनकी आरंभिक निष्ठा पेशवा परिवार के प्रति थी। तात्या टोपे अपनी देशभक्ति, वीरता, व्यूरचना, शत्रु को चकमा देने की कुशलता साधन हीनता की स्थिति में युद्ध जारी रखने का साहस निर्भीकता और गोरिल्ला पद्धति से युद्ध के लिए जाने जाते हैं। पेशवा नानासाहेब की ओर से युद्ध का समस्त उत्तरदायित्व तात्या टोपे  पर ही था।
            झांसी की रानी लक्ष्मीबाई के साथ ग्वालियर पर अधिकार करने में तात्या टोपे का बड़ा योगदान रहा। रानी लक्ष्मीबाई की मृत्यु के पश्चात तात्या टोपे ने निरंतर गोरिल्ला युद्ध के माध्यम से मध्य भारत और बुंदेलखंड में अंग्रेजों को कड़ी टक्कर दी। अंग्रेजों ने तात्या टोपे को बंदी बनाने के लिए कुटिलता और विश्वासघात की नीति का पालन किया। अंततः तात्या टोपे को आरोन जिला गुना के जंगल में विश्राम करते समय बंदी बनाया गया।और अंग्रेजों ने 18 अप्रैल 1859 को तात्या को फांसी दे दी।



                                रानी लक्ष्मी बाई

अंग्रेजों ने 1854 में झांसी के राजा गंगाधर राव की मृत्यु के पश्चात उनकी रानी लक्ष्मीबाई के दत्तक पुत्र को झांसी की गद्दी की उत्तराधिकारी मानने से इंकार कर दिया तथा झांसी का अंग्रेजी साम्राज्य में विलय कर लिया। इसका विरोध करती हुए रानी लक्ष्मीबाई ने ब्रिटिश सेना से जबरदस्त टक्कर ली सर यूरोज द्वारा पराजित होने पर वह कालपी आई व तात्या टोपे की मदद से ग्वालियर पर अधिकार किया। अंग्रेज सेनापति यूरोज ने ग्वालियर आ कर किले को घेर लिया।  17 जून 1858 को झांसी की रानी लक्ष्मीबाई बड़ी वीरता से सैनिक पेश में संघर्ष करती हुई वीरगति को प्राप्त हुई । उनकी वीरता की गाथा आज भी देशवासियों को प्रेरित करती हैं।




प्रश्न अंग्रेजों के आर्थिक शोषण की नीति ने भारती कुटीर उद्योगों को कैसे प्रभावित किया?
उत्तर-

अंग्रेजों की आर्थिक शोषण की नीति ने भारतीय उद्योग धंधे विशेष तौर पर भारतीय कुटीर उद्योगों को अत्यधिक प्रभावित किया।
इसके निम्न दो कारण थे -
(1) मशीनों से निर्मित माल में सफाई आती थी तथा लागत कम आती थी जबकि कुटीर उद्योग में लागत अधिक होती थी तथा एकरूपता का अभाव रहता था।
(2) भारत से निर्यात होने वाली माल पर चुंगी की दर विदेशों में बढ़ा दी गई और इंग्लैंड की निर्मित वस्तुओं के आयात पर चुंगी की छूट देकर उन्हें भारतीय बाजारों में बेचा जाने लगा इस स्थिति में कुटीर उद्योगों का प्रभावित होना स्वाभाविक ही था।




प्रश्न 19वीं शताब्दी के अंतिम दशक में किन कारणों से उग्र राष्ट्रवाद को प्रोत्साहन मिला ?
उत्तर-
19वीं शताब्दी के अंतिम दशक में निम्न कारणों से उग्र राष्ट्रवाद को प्रोत्साहन मिला-

(1) अकाल व फ्लैग - 19वीं शताब्दी के अंतिम वर्षों में भारत में कई भागों में अकाल तथा फ्लेग फैला ब्रिटिश सरकार ने इस और कोई ध्यान नहीं दिया। इससे लोगों में असंतोष फैला जिससे उग्र राष्ट्रवाद ने जन्म लिया।

(2) बंगाल विभाजन - लॉर्ड कर्जन ने 1905 में बंग बंग द्वारा बंगाल का विभाजन कर दिया। इससे जनता में रोष भर गया और वह उग्र राष्ट्रवाद की ओर अग्रसर हुई।

(3) धार्मिक और सामाजिक सुधारकों का प्रभाव - धार्मिक और सामाजिक सुधारकों ने भारतीय जनता में आत्मविश्वास पैदा कर दिया था।

(4) विदेशी घटनाओं का प्रभाव -फ्रांस और अमेरिका की क्रांतियों ने भी भारतीयों को प्रेरणा प्रदान की। आत: वे उग्र राष्ट्रवादी आंदोलनों द्वारा स्वतंत्रता प्राप्त करने का प्रयास करने लगे।



प्रश्न 1857 के स्वतंत्रता संग्राम की असफलता के कारण बताइए।
उत्तर-
      18 57 की स्वतंत्रता संग्राम के असफलता के निम्न कारण थे

(1) 1857 की क्रांति निर्धारित तिथि से पूर्व प्रारंभ कर दी गई थी। जिससे यह असफल हो गई। मैलसन के अनुसार "यदि यह क्रांति निश्चित समय पर प्रारंभ होती तो इसे सफलता अवश्य मिलती।"

(2)1857 की क्रांति की असफलता का अन्य कारण योग नेतृत्व का अभाव था। विद्रोही नेताओं में सैनिक कुशलता तथा संगठित होकर कार्य करने तथा क्रांति संचालन की क्षमता का अभाव था।

(3)1857की क्रांति के समय अधिकांश नरेशो ने क्रांतिकारियों का साथ ना देकर अंग्रेजों का ही साथ दिया। सर जॉन के मत में "यदि समस्त भारतवासी पूर्ण उत्साह से अंग्रेजों के विरुद्ध संगठित हो जाते तो अंग्रेज पूर्णतया नष्ट हो जाते।"

(4)क्रांतिकारियों में वीरता तथा साहस की भावना का अभाव नहीं था परंतु उनकी सैनिक शक्ति अत्यधिक दुर्बल थी।

(5)अंग्रेज अधिकारी क्रांतिकारियों का दमन आधुनिक हत्यारों से करते थे परंतु क्रांतिकारियों के पास उनका सामना करने के लिए आधुनिक हथियारों का अभाव था।

खरीफ की फसल किसे कहते हैं,खनिज संसाधन क्या है class 10th social science,खनिज तथा ऊर्जा संसाधन PDF,वनों से होने वाले प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष लाभ,वनों से होने वाले कोई पांच लाभ बताइए,हरित क्रांति से आप क्या समझते हैं उत्तर,हरित क्रांति की समस्या,विश्व में हरित क्रांति की शुरुआत,आधुनिक युग में लोहे का क्या महत्व है समझाइए, सैनिकों में असंतोष के क्या कारण थे,भारतीय शासकों में असंतोष के कारण बताइए,1857 के स्वतंत्रता संग्राम को प्रथम स्वतंत्रता संग्राम क्यों कहा जाता है,तात्या टोपे class 10th,



प्रश्न भारत में बसने वाले यूरोपीय ने इलबर्ट बिल का विरोध क्यों किया?
उत्तर-
                                 इलबर्ट बिल.                     

लॉर्ड रिपन ने जाति भेदभाव को दूर करने के लिए एक कानून बनाने का प्रयास किया। इसे विधि सदस्य इलबर्ट ने तैयार किया था। आत:  ऐसे इल्बर्ट बिल कहा गया।  इसके द्वारा मजिस्ट्रेट और सेशन जज के फौजदारी मुकदमों में यूरोपीय लोगों की सुनवाई का अधिकार दिया जाना था।
                              इल्बर्ट बिल प्रजातीय भेदभाव की नीति को उजागर करता था। भारतीय न्यायाधीशों को यूरोपीय अपराधियों का मुकदमा सुनने का अधिकार नहीं था। इस भेदभाव को दूर करने के लिए इलबर्ट बिल लाया गया । भारत में बसने वाले यूरोपियों ने इल्बर्ट बिल का संगठित होकर विरोध किया। और इसे काला कानून माना।  अंततः ब्रिटिश सरकार को इल्बर्ट बिल वापस लेना पड़ा ।भारतीयों के मन पर इसका गहरा प्रभाव पड़ा।




प्रश्न कांग्रेस की स्थापना के क्या उद्देश्य थे?
उत्तर-
           कांग्रेस की स्थापना के नियम उद्देश्य थे -
(1)साम्राज्य के विभिन्न भागों में राष्ट्र के हित के कार्यों में संलग्न ऐसे सभी व्यक्तियों में परस्पर घनिष्ठता और मित्रता को बढ़ावा देने की दिशा में कार्य करना।

(2)अपने सभी राष्ट्र प्रेमियों में जाति, धर्म या प्रांतीयता के सभी संभव पूर्वाग्रहों को सीधे मित्रता पूर्ण व्यक्तिगत संपर्क से दूर करना और राष्ट्रीय एकता की भावनाओं को पूरी तरह विकसित और संगठित करना।

(3) तत्कालीन महत्वपूर्ण और ज्वलंत सामाजिक समस्याओं के बारे में शिक्षित वर्ग के परिपक्व व्यक्तियों के साथ पूरी तरह से विचार-विमर्श करने के बाद बहुत सावधानी से प्रमाणित लेखा-जोखा तैयार करना।

(4)जिन दिशाओ में और जिस तारीख से अगले 12 महीनों में देश के राजनीतिज्ञों को लोक हित के लिए कार्य करना चाहिए उसका निर्धारण करना।



प्रश्न भारत में राष्ट्रीय जागृति के विकास में पश्चिम के विचारों और शिक्षा में क्या भूमिका निभाई?
उत्तर-

अंग्रेजी शिक्षा का प्रचार लॉर्ड मैकाले ने भारतीय राष्ट्रीयता को जड़ से समाप्त करने के उद्देश्य से किया था। वह भारत में अंग्रेजी भाषा का प्रचार प्रसार कर एक ऐसा वर्ग तैयार करना चाहता था जो ब्रिटिश साम्राज्य के हित के लिए कार्य करें । परंतु अंग्रेजी शिक्षा ने भारतीयों को विदेशी बंधन से मुक्त होने की प्रेरणा दी। अंग्रेजी शिक्षा का ज्ञान होने के कारण भारतीय पाश्चात्य, विचार दर्शन और शासन प्रणाली से परिचित हुए रूसो , वाल्टेयर ,
मैजिनी वर्क ,और गैरीबाल्डी के विचारों ने उन्हें अत्यधिक प्रभावित किया।
                                        इस प्रकार पाश्चात्य शिक्षा ने भारतीयों को राष्ट्रीयता स्वतंत्रता समानता और लोकतंत्र जैसे आधुनिक विचारों से अवगत कराया।


प्रश्न वन्य प्राणी संरक्षण से आप क्या समझते हैं एवं वन्य प्राणी संरक्षण के उपाय बताइए?

प्रश्न हरित क्रांति की मुख्य विशेषताएं कौन-कौन सी हैं लिखिए?


प्रश्न श्वेत क्रांति वापिस क्रांति में अंतर लिखिए?

प्रश्न जल संरक्षण क्यों आवश्यक है? उपायों का वर्णन कीजिए।




MP board class 10th important question social science

1- important question class 10th social science

2-MP board final exam important question social science

3 -final exam paper 2020 class 10th

4-final exam paper 2020 class 10th important question social science

5-social science class 10 important questions 2020




1 टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने